Menu

Vela Writes

PageViews:

236908

घूमती सी धरती

घूमती सी धरती पर घूमते रहे हैं,
ठहरा हुआ जानकर झूमते रहे हैं।
पुतला पंचतत्व का सांस के सहारे पर,
झूठ के घमंड में ही भूलते रहे हैं।
अवधेश

Go Back

Comment