Menu

Vela Writes

PageViews:

236901

छोड़ रास्ते इंसानियत के

छोड़ रास्ते इंसानियत के जो हैवानियत पूजते हैंं,
कुरेदकर पुराने जख्म जिगर का हाल पूछते हैं।
मार जो देते हैंं इन्सान को किसी भी इल्जाम पर,
वे इस मुल्क के सोच की तासीर कब समझते हैं।
अवधेश

Go Back

Comment